second-hand-mobile

सावधान !! क्या आप सेकेंडहैंड फ़ोन खरीद/यूज़ कर रहे हैं ?

हेल्लो दोस्तों! Glorious Frog Blog में आपका स्वागत है। हम अक्सर आपके लिए साइंस और टेक्नोलॉजी से संदर्भित ब्लॉग साझा करते है जो कि रोजमर्रा की जिदगी में आपके कई काम भी आता है। हमारे आज के इस ब्लॉग के जरिये हम आपको बतायेंगे कि सेकंड हैण्ड फ़ोन खरीदते वक़्त किन बातों का ध्यान रखकर हम आनेवाली मुश्किलों से बच सकते हैं। पूरी जानकारी के लिए पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़े ।

दोस्तों, अक्टूबर से लगभग सभी ई-कॉमर्स कंपनियां फेस्टिवल सेल शुरू करने वाली है। इस सेल के दौरान आप सेकंड हैंड स्मार्टफोन भी खरीद सकते हैं। कंपनियां इन स्मार्टफोन को एकदम नया जैसा बनाकर सेल करती हैं। ऐसे में आप भी कोई सेकंड हैंड फोन खरीदने वाले हैं तब आपके इन फोन से जुड़ी कुछ जरूरी बातें ध्यान रखना चाहिए। ताकि आप किसी तरह के नुकसान से बच जाएं। तो आयिए जानते है गौर करने वाली बातों के बारे में।

1. सबसे पहले आप फोन की कीमत के बारें में जरुर पता करें आप जिस सेकंड हैंड स्मार्टफोन को खरीद रहे हैं वो मॉडल कब लॉन्च हुआ था और उसकी मौजूदा कीमत कितनी है? इस बात का पता जरूर लगाएं।
कई बार किसी सेकंड हैंड स्मार्टफोन की कीमत उसके नए मॉडल की कीमत के आसपास ही होती है। या फिर बहुत कम अंतर होता है। जैसे मान लीजिए आप जिस सेकंड हैंड फोन को खरीद रहे हैं उसकी कीमत 5 हजार रुपए है, लेकिन उसी फोन के नए मॉडल की कीमत 6 हजार के करीब है।

2. फोन की एक्सेसरीज :- फोन के साथ मिलने वाली एक्सेसरीज जैसे चार्जर एडॉप्टर, यूएसबी केबल, ईयरफोन पूरी तरह काम कर रहे हैं इस बात को जरूर चेक करना चाहिए।
साथ ही, यूएसबी केबल से डेटा ट्रांसफर हो रहा है इसे भी चेक करना चाहिए। सबसे जरूरी बात कि ये एक्सेसरीज ओरिजनल है या नहीं, इस बात को भी देख लेना चाहिए। कंपनियां इस एक्सेसरीज पर 6 महीने की वारंटी भी देती हैं।

3. फोन को फॉर्मेट करना:- फोन में सिम डालने से पहले उसे 2 से 3 बार फॉर्मेट या फैक्ट्री रिसेट जरूर करें। ऐसा इसलिए जरूरी है कि यदि फोन में कोई प्री-इन्स्टॉल ऐप या कोई बग या वायरस है तब वो हट जाए।
फोन को फॉर्मेट करने के लिए आपको सेटिंग्स में जाकर सिक्योरिटी में जाकर फॉर्मेट ऑप्शन को सिलेक्ट करना होगा। अब फोन में सिम और मेमोरी कार्ड डालकर ऑन करें। फोन ऑन होने के बाद चेक करें कि मेमोरी कार्ड रीड हो रहा है या नहीं।

4. डिस्प्ले, कैमरा टेस्ट:- जब फोन ऑन हो जाए तब सबसे पहले फोन स्क्रीन को सभी जगह टच करके देखें। हो सकते तो फोन पर कोई गेम खेलकर देख लें। इससे डिस्प्ले का टच कितना इफेक्टिव है पता चल जाएगा।
साथ ही, फोन के रियर और फ्रंट कैमरा को भी अच्छी तरह चेक करें। इससे क्लिक होने वाले फोटो की क्वालिटी सही आ रही है या नहीं। अब फोन से कॉलिंग करके भी जरूर चेक करें। फोन में प्रॉपर नेटवर्क और आवाज आ रही है या नहीं।

5. कनेक्टिविटी और बैटरी बैकअप:- फोन कितनी देर में चार्ज हो रहा है और उसका बैटरी बैकअप कितना है? इस बात को भी चेक करना चाहिए। साथ ही, फोन के दूसरे कनेक्टिविटी फीचर्स को भी चेक करना चाहिए। यदि फोन OTG को सपोर्ट करता है तब उसमें पेन ड्राइव लगाकर देख लेना चाहिए।

6. बिल और IMEI नंबर चेक करें:- यह ध्यान रखें तो अगर आप सेकेंड हैंड स्मार्टफोन खरीद रहे हैं तो उसका इनवॉयस बिल जरूर चेक करें। क्योंकि फोन बेचने वाला व्यक्ति यह भी कह सकता है कि बिल खो गया है। फोन का IMEI नंबर भी चेक करना जरूरी है। यह देख लें कि बिल पर दिया गया IMEI नंबर और फोन को IMEI नंबर एक समान हो। इसे आप फोन पर *#06# डायल करके चेक कर सकते हैं।

हमें उम्मीद है कि इस ब्लॉग को पढने के बाद सेकंड हैण्ड फ़ोन खरीदते वक़्त आप इन बातों का अवश्य ध्यान रखेंगें। इस पोस्ट से जुड़ी किसी भी अन्य जानकारी के लिए आप हमसे कमेंट के माध्यम से संपर्क कर सकते है। धन्यवाद ! हमारे अन्य ब्लॉग को पढने के लिए विजिट कीजिये :- https://gloriousfrog.in/ 

Leave a Reply